Mahanarayan Tel

Rate this item
(2 votes)

Very useful in simple Arthritis, joints pain, Hemiplegia, Muscular pains etc

महानारायण तेल

घटकद्रव्यः रास्ना, अश्वगंधा, सौंप!, देवदार!,कुठ, शालपर्णी, अगर, नागरमोथा,

तेजपान, सेंधानमक, छोटी ईलायची, मंजिष्ठा, मुलेठी, तगर,नागरमोथा, तेजपान, भांगरा,

सुगंधवाला ;खसद्ध, वच, पलसमुल, पुर्ननवामुल, चोरपुष्पी, सोनपाठा, सतावरी इत्यादी.

उपयोगः इस तेल की मालीश करने से पसिने की दुर्गंधी शिघ्र नष्ट हो जाती है। सभी

प्रकार के वातरोग को शिघ्र नष्ट करने मदत करता है। वातव्याधी विशेषतः एकांग वात,

अर्दित और हस्त पादादिकम्पन, पंगु, वधिर्य, शुव्र!क्षय, मन्यास्तंभ, हनुस्तंग और

शिरसुल आदि रोगो मे उपयोगी है। शाखाश्रितवात, कोष्टगतवात, जिव्हास्तंभ,

दंतशुल, उन्माद, कुबडापन, के लिए उत्तम है। इस तेल से

वृध्दावस्था मे लाभ होकर शक्ति संपन्न होता है।

Last modified on Friday, 21 August 2017 13:49
#fc3424 #5835a1 #1975f2 #2fc86b #fbeac9 #140f10441 #020613191828